क्या यादें इंसान को भावुक बना देती हैं? क्यों सताती है किसी की याद?

यादें: अक्सर जब हम रोज काम से लौटकर घर पहुंचते हैं! तो आपके घर में डॉगी पास आकर झूमने या लिपटने लगता है। कई बार छोटे बच्चे भी हमसे लिपटने लगते है। शोधकर्ताओं ने कहा है कि पेट्स वाली यही भावना इंसानी स्वभाव में भी होती है। जिस प्रकार छोटे बच्चे को जब मां की याद आती है तो वह रोने लगता है। जब मां पास आती है तो बच्चा अपने आप नॉर्मल हो जाता है।

इंसानी स्वभाव की यह गुणवत्ता पूरी उम्र हमारे साथ ही रहती है। इसका असर ज़िंदगी के हर मोड़ पर दिख जाता है। जैसे स्कूल में जब कोई दोस्त हमारे साथ नहीं खेलता तो गेम में मज़ा नहीं आता। मन उखड़ा सा रहता है। कॉलेज के नए महौल में स्कूल टीचर और दोस्तों की खूब याद सताती है। इसी प्रकार हमारे साथ जुड़े दोस्तों, सहयोगियों, शिक्षकों या बॉस, जीवनसाथी या बच्चों की भी याद सताती है। आखिर क्या कारण है किसी की याद सताने का?

किसी व्यक्ति की मौजूदगी

किसी व्यक्ति की मौजूदगी

आखिर क्यों हम कुछ खास और अपने नजदीकी लोगों को याद करते हैं? असल में किसी के साथ एक मजबूत संबंध बन जाना इंसानी स्वभाव में प्राकृतिक है। कभी-कभी पार्टनर की गैरमौजूदगी हमे पल-पल सताने लगती है। 

हमारी लाइफ में ऐसे बहुत से लोग होते हैं जिनसे सकारात्मक अनिभूति का एहसास होता है। इसलिए उनका हमारे साथ एक रिश्ता बन जाता है। जब उनकी उपस्थिति में अच्छा और सकारात्मक महसूस होता है! तो लगता है हम अपना ज्यादा समय उन्हीं की उपस्थिति में बिताएं। इस प्रकार जब वो दूर होते हैं तो उनकी यादें सताती हैं। 

Read more: Know The Goal Of Your Relationship With The Help Of An Experts

एक मजबूत संपर्क

एक मजबूत संपर्क

हर रोज हमसे बहुत से लोग मिलते हैं। उनमे से कई बार बार मिलते रहते हैं। इसका मतलब यह नहीं कि आप हर व्यक्ति से जुड़ाव महसूस करें। जब आपको कोई खास कनेक्शन वाला साथी मिलता है तो उसके साथ एक खास सम्बन्ध बन जाता हैं। कई बार यह कनेक्शन आपको उनकी गैरमौजूदगी में कमज़ोर महसूस कराता है।

कोई बहुत खास है 

कोई बहुत खास है 

जब आप किसी इंसान को याद कर रहे हैं! तो किसी की याद आना यह बयां करता है कि वो आपके लिए कितना खास है। कुछ लोग हमारे जीवन में घुलमिल जाते हैं। इसलिए वो बहुत महत्वपूर्ण होते हैं। जब वो आसपास नहीं होते तब उनकी अहमियत का पता चलता है। 

अहमियत का एहसास

अहमियत का एहसास

आम तौर पर, किसी व्यक्ति कि अनुपस्थिति के उपरांत ही उनकी सही वैल्यू का पता चलता है। यह भी एक कारण हो सकता है कि उनकी यादें अहसास कराती हैं। जिस व्यक्ति ने आपके दुःख-सुख में सहयोग दिया हो! वो आपके लिए बहुत मायने रखता है।

सकारात्मक भावनाओं का संचार 

सकारात्मक भावनाओं का संचार 

अकसर हम जिन लोगों के साथ खुश रहते हैं! उनकी उपस्थिति से आपके आस पास का माहौल सकारात्मक बना रहता है। ऐसे लोग हर किसी के दिल में जगह बना लेते हैं। इसलिए उनकी यादें कहीं न कहीं रह जाती हैं।

Sandeep Singh

Leave a Reply

Your email address will not be published.