फाल्गुन अमावस्या 2022: शिव-सिद्ध योग, क्या है इस शुभ दिन का महत्व

फाल्गुन अमावस्या 2022: फाल्गुन अमावस्या हिंदुओं का एक महत्वपूर्ण त्योहार है। फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष में पड़ने वाली अमावस्या को ही फाल्गुन अमावस्या कहा जाता है। फाल्गुन अमावस्या को काफी शुभ माना जाता है। यह सभी अनुयायियों के लिए भाग्य और समृद्धि लाता है।

लोग इस अमावस्या पर समग्र विकास और जीवन में समृद्धि के लिए उपवास रखते हैं। यह त्यौहार पूर्वजों का आशीर्वाद मांगने के लिए अर्पण-तर्पण या श्राद्ध करने के लिए भी मनाया जाता है। ऐसा माना जाता है कि यदि फाल्गुन अमावस्या सप्ताह के दिनों जैसे सोमवार, मंगलवार, गुरुवार या शनिवार को पड़ती है? तो यह सूर्य ग्रहण से भी अधिक गंभीर परिणाम देती है। इस बार फाल्गुन अमावस्या 2022 में 02 मार्च बुधवार को है।

लोग इस दिन पवित्र नदियों में डुबकी लगाते हैं। अपने पापों से छुटकारा पाने के लिए दान देते हैं। सनातन धर्म में इस दिन का विशेष महत्व है। अमावस्या के दिन भगवान शिव और भगवान श्री कृष्ण की पूजा करने की भी परंपरा है। क्योंकि जब आकाश में चंद्रमा गायब हो जाता है! तो भगवान शिव के सिर पर मौजूद चंद्रमा दुनिया को रोशन करता है। वैदिक ज्योतिष के अनुसार भगवान कृष्ण चंद्रमा के प्रतीक हैं।

इस बार फाल्गुन अमावस्या शिव और सिद्ध योग में पड़ रही है। यह जीवन में सफलता प्राप्त करने का बहुत शुभ संयोग है।

Read more: Paush Purnima 2022: Know The Importance Of This Day, Shubh Muhurat And Puja Vidhi

फाल्गुन अमावस्या का महत्व

फाल्गुन अमावस्या का महत्व

ऐसा विश्वास है कि फाल्गुन अमावस्या के दिन सभी देवी-देवता पवित्र नदियों में प्रकट होते हैं। इसलिए इस दिन पवित्र नदियों में स्नान करना और दान करना शुभ माना जाता है। फाल्गुन अमावस्या को जीवन में सुख, प्रचुर धन और सौभाग्य की प्राप्ति के लिए विशेष रूप से लाभकारी माना जाता है। ऐसी मान्यता है कि फाल्गुन मास की अमावस्या के दिन उपवास, पूजा और तर्पण करने से पितरों को मोक्ष की प्राप्ति होती है। वे हमें अपने अच्छे जीवन का आशीर्वाद देते हैं। सोमवार के दिन पड़ने वाली फाल्गुन अमावस्या महाकुंभ स्नान के लिए योग बनाती है। 

फाल्गुन अमावस्या 2022 का शुभ मुहूर्त, तिथि और शुभ समय

  • फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि 01 मार्च मंगलवार दोपहर 1:00 बजे से 02 मार्च को रात 11.04 बजे तक चलेगी।
  • इस समय महाशिवरात्रि समाप्त होगी और अमावस्या शुरू होगी। 
  • उदय तिथि पर आधारित फाल्गुन अमावस्या 02 मार्च को है।
  • फाल्गुन अमावस्या शिव और सिद्ध योग नामक दो शुभ योगों के साथ आएगी। 
  • इस अमावस्या के दिन सुबह 08.21 बजे तक शिव योग है। 
  • उसके बाद सिद्धयोग शुरू होगा, जो 03 मार्च को सुबह 05:43 बजे तक रहेगा। 

फाल्गुन अमावस्या पर पितृ पूजन 

फाल्गुन अमावस्या पर पितृ पूजन

यह अमावस्या हमारे पूर्वजों को शांत करने के लिए एक उपयुक्त दिन माना जाता है। लोग आंतरिक शांति और हमारे पूर्वजों की मुक्ति के लिए पिंडदान, श्राद्ध और तर्पण करते हैं। इस दिन पितृ पूजा सुबह 11:30 बजे से दोपहर 02:30 बजे तक की जाएगी। ऐसा माना जाता है कि इस दिन, श्राद्ध कर्म या पिंडदान करके तर्पण करने से पूर्वजों को शांति मिलती है। ज्योतिष शास्त्र में पितृ दोष एक हानिकारक दोष है। यह जीवन में दुर्भाग्य लाता है। तर्पण करने से हम इस हानिकारक दोष से छुटकारा पा सकते हैं। हमारे पूर्वज प्रसन्न होकर हमें समृद्धि का आशीर्वाद देते हैं। इससे वो हमारे पारिवारिक जीवन में सुख और शांति बनाए रखते हैं। 

फाल्गुन अमावस्या 2022 व्रत और धार्मिक अनुष्ठान

फाल्गुन अमावस्या 2022 व्रत
  • प्राचीन मान्यताओं के अनुसार, फाल्गुन अमावस्या पर किए गए उपवास और पारंपरिक अनुष्ठान तत्काल सकारात्मक परिणाम देते हैं। 
  • इस दिन पितृ शांति के लिए किए गए आहुति का बहुत महत्व होता है। 
  • सुबह पवित्र नदी, सरोवर या तालाब में पवित्र स्नान करें। आपको गायत्री मंत्र का जाप करते हुए भगवान सूर्य को अर्घ्य भी देना चाहिए। आपको सूर्य मंत्र का भी जाप करना चाहिए। 

| घृणी सूर्याय नमः |

  • इसके बाद पितरों को अर्पण करके उनका आशीर्वाद और उनकी आत्मा की मुक्ति के लिए प्रार्थना करें।
  • अपने पूर्वजों को याद करते हुए उपवास रखें और उनके शांतिपूर्ण निवास के लिए उनके नाम पर दान करें।
  • शाम के समय पीपल के पेड़ के नीचे सरसों के तेल का दीपक भी जलाना चाहिए। अपने पूर्वजों को याद करते हुए पेड़ की सात बार परिक्रमा करें।
  • आप रुद्र (भगवान शिव), अग्नि (अग्नि) और ब्राह्मणों की पूजा भी कर सकते हैं। उन्हें काली उड़द की दाल और अन्य व्यंजनों से बना नैवेद्यम चढ़ा सकते हैं। दही को नैवेद्यम में शामिल करना जरूरी है। तत्पश्चात प्रसाद बांटें और खाएं।
  • शिव मंदिर जाएं और गाय के दूध, दही, शहद, घी और चीनी से बने पंचामृत से भगवान शिव का अभिषेक करें। शिवलिंग पर काले तिल भी चढ़ाएं।
  • अमावस्या के दिन शनि देवता की भी पूजा की जाती है। शनि मंदिर में सरसों का तेल और तिल चढ़ाकर उनकी पूजा करें। साथ ही नीले फूल, काले तिल और साबुत काली उड़द, काजल और काले वस्त्र अर्पित करें।

Astro Pawan Sharma

Leave a Reply

Your email address will not be published.