इंसान की कुंडली में सूर्य का क्या महत्व है? जाने ज्योतिष क्या कहते है इस बारे में

मनुष्य की लाइफ में ज्योतिष बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है। अन्य कारकों में कहा गया है कि कुंडली मनुष्य के जीवन से सम्बंधित हर प्रकार की भविष्यवाणी है। इसकी ग्रहों के साथ तुलना की जाती है। इंसान के जीवन में सभी ग्रहों का अपना महत्व होता है। इनमे कुंडली में सूर्य का महत्व भी बहुत अहम होता है। सूर्य को व्यवसाय और नौकरी का प्रतीक माना गया है। इस क्षेत्र में सूर्य का मजबूत होना बहुत जरुरी होता है। राजनीति के क्षेत्र में भी सूर्य देव की स्थिति अच्छी होनी चाहिए।

Read more: How Are Planet Related To Human Life? Do They Have Any Effect On Humans?

कुंडली में सूर्य का क्या महत्व है

सूर्य का महत्व
  • जिन लोगों का लग्न व सूर्य कमजोर होता है! उन पर नकारात्मक ऊर्जा का प्रभाव जल्दी पड़ता है।
  • यदि कुंडली में ग्रहण योग है या राहु बहुत अनिष्टकारी स्थिति में होता है? या मंगल-शनि का संयोग या चंद्र-शनि का संयोग हो! तब भी व्यक्ति ऋणात्मक शक्तियों के प्रभाव में आता है। इन स्थितियों में लोग कर्ज में डूबे रहते हैं। अगर कोई कर्जा खत्म होता है? तो दूसरा शूरु हो जाता है।
  • व्यक्ति के मान सम्मान में भी कमी आ सकती है। कई बार न किए गए कार्यों में भी आरोपी सिद्ध हो जाते हैं। 
  • सूर्य एक शक्ति का निर्माण करने वाला ग्रह होता है। मनुष्य के शरीर में निर्मित होने वाली विद्युत शक्ति पर भी सूर्य का प्रभाव होता है।
  • सूर्य के कमजोर होने से व्यक्ति को कई बिमारियों का सामना भी करना पड़ सकता है। जैसेकि दिल की बीमारियां, आत्मशक्ति में कमी, चेतना की कमी, गर्मी से जुड़ी बीमारियां, बुखार, सिर के अंदरूनी हिस्से में कोई चोट व रीढ़ की हड्डी से संबंधित हो सकती हैं।
  • यह ग्रह अग्नि का कारक होता है। इससे हाजमे मे तकलीफ, श्वेत मांसपेशियों में दर्द और दृष्टि दोष से संबंधित परेशानियां हो सकती हैं। 

कुंडली में सूर्य को जागृत करने के लिए कुछ उपाय

सूर्य के उपाय
  • भगवान भोलेनाथ की पूजा अर्चना करनी चाहिए।
  • हफ्ते के ग्यारह या इक्कीस रविवार तक गणेश जी को लाल फूल अर्पित करें |
  • अपनी कुंडली में सूर्य को मजबूत करने के लिए तांबे के लोटे से जल, चावल, लाल फूल, लाल चन्दन मिलाकर सूर्य देवता को अर्घ्य दें | इसके साथ ही जल देते समय ‘ऊं अदित्याये नमः’ अथवा ‘ॐ घ्रिणी सूर्याय नमः’ का जाप भी करे।
  • कोई भी उपाय करने से पहले अपनी कुंडली का विश्लेषण करवा लें। इससे आपके उपायों का प्रभाव जल्दी पड़ता है। 
  • संभव हो तो रविवार के दिन नमक का सेवन न करें। अपने खाने में दलिया, दूध, दही, घी, चीनी, गेहूं की रोटी का सेवन कर सकते हैं। 
  • सूर्य के कमजोर होने की स्थिति में लाल और पीले रंग के वस्त्र, गुड़, सोना, तांबा, माणिक्य, गेहूं, लाल कमल, मसूर दाल, गाय इत्यादि का दान करें। 

Sandeep Singh

Leave a Reply

Your email address will not be published.